Aller au contenu principal

मिडलसेक्स


मिडलसेक्स




मिडलसेक्स (उच्चारित/ˈmɪdəlsɛks/) इंग्लैंड के ऐतिहासिक प्रान्तों (काउंटीज) में से एक और क्षेत्रफल की दृष्टि से वहां का दूसरा सबसे छोटा प्रान्त है। निचले भाग में अवस्थित इस प्रांत की दक्षिणी परिसीमा में धनी और राजनीतिक रूप से स्वतंत्र लन्दन शहर आता था और यह प्रान्त बहुत पहले से ही लन्दन से प्रभावित था। 18वीं और 19वीं शताब्दी के दौरान लन्दन शहर के महानगरीय विस्तारीकरण के फलस्वरूप इस प्रांत पर काफी प्रभाव पड़ा; यह प्रभाव इतना अधिक था कि 1855 से इसका दक्षिणपूर्वीय भाग महानगर के प्रशासन में आने लगा। जब प्रारंभ में 1889 में इंग्लैंड में प्रान्त समितियों की शुरुआत हुई थी तब मिडलसेक्स का लगभग 20 प्रतिशत क्षेत्रफल और इसकी एक तिहाई जनसंख्या को लन्दन प्रांत (काउंटी) में स्थानांतरित कर दिया गया था और बाक़ी बचे हिसों के द्वारा उत्तरपश्चिम में मिडलसेक्स प्रान्त समिति के नियंत्रण में एक छोटा प्रान्त बना लिया गया।

युद्ध के वर्षों के बीच में बढ़ते हुए उपनगरीकरण, संशोधित व विस्तृत सार्वजनिक यातायात और आतंरिक लन्दन के बाहर के क्षेत्र में नए उद्योगों की स्थापना के साथ नगरीय लन्दन का और भी अधिक विस्तार हुआ। द्वीतीय विश्व युद्ध के बाद लन्दन प्रांत (काउंटी) और अन्तः मिडलसेक्स की जनसंख्या में लगातार गिरावट आ रही थी, नयी जनसंख्या वृद्धि मात्र बाहरी क्षेत्रों में हो रही थी। ग्रेटर लन्दन में स्थानीय शासन पर रॉयल कमीशन के बाद 1965 में लगभग पूरा वास्तविक क्षेत्रफल एक विस्तृत ग्रेटर लन्दन में शामिल कर लिया गया, छोटे भागों को पड़ोस के हेर्टफोर्डशायर और सरे में स्थानान्तरित कर दिया गया। प्रांत काउंटी) के हट जाने के बाद भी, मिडलसेक्स अब भी अनौपचारिक रूप से एक क्षेत्र के नाम के रूप में प्रयोग किया जाता है और इसे एक पोस्टल काउंटी के रूप में बनाये रखा गया; जो अब डाक के पते का वैकल्पिक घटक होता है।

इतिहास

प्रदेश अथवा स्थानो के नाम का अध्ययन (टोपोनॉमी)

इस नाम का अर्थ मध्य सेक्सन क्षेत्र है और यह अपने बाशिंदों के जनजातीय मूल की ओर संकेत करता है। यह प्राचीन अंग्रेजी शब्दों 'मिडल' और 'सीएक्स' से मिलकर बना है। इसका प्रथम प्रमाणिक प्रयोग 704 में मिडलसेक्सन के रूप में हुआ था।

प्रारंभिक निर्धारण

मिडलसेक्स के सम्बन्ध में डोम्स्डे की पुस्तक में अभिलेख मिलता है जिसके अनुसार यह शतकों के छः भागों, एडमॉन्टन, एल्थोर्न, गोर, हाउंसलो (बाद के सभी अभिलेखों में आइसल्वार्थ), ओस्स्युल्टों और स्पेलथोर्न में विभाजित है। सिटी ऑफ लन्दन जो 13 वीं शताब्दी से स्व-शासन में चल रही थी, वह भौगोलिक रूप से इस प्रांत (काउंटी) के अन्दर आता था जिसमे उच्च स्तरीय स्वायत्तता वाला वेस्टमिन्स्टर भी शामिल था। 6 शतकीय भागों में से ओस्स्युल्टों के अन्दर वह जिले शामिल थे जो लन्दन नगर के सबसे समीप थे। 17वीं शताब्दी के दौरान इसे चार भागों में बांट दिया गया था जिन्होंने वेस्टमिन्स्टर की स्वतंत्रता के साथ शतकों के अधिकांश प्रशासकीय कार्यों पर नियंत्रण कर लिया। इन प्रभागों के नाम फ़िंसबरी, हॉलबॉर्न, केंसिंग्टन और टावर थे। 13वीं शताब्दी से प्रांत (काउंटी) से लोकसभा में प्रतिनिधि रहे हैं। 1622 और 1677 में दो बार अर्ल ऑफ मिडलसेक्स की उपाधि बनायी गयी थी लेकिन 1843 में इसका प्रयोग समाप्त हो गया।

आर्थिक विकास

प्रारंभिक समय से यहां की अर्थव्यवस्था लन्दन प्रांत (काउंटी) पर निर्भर करती थी और अर्थव्यवस्था मुख्यतः कृषि आधारित थी। नगर के लिए सभी प्रकार की आवश्यक वस्तुओं का प्रबंध किया जाता था जिसमें अनाज और फूस जैसी फसलें, जानवर और भवन निर्माण की सामग्री भी शामिल थी। हैकनी, इस्लिंगटन और हाईगेट जैसे प्रारंभिक सैरगाहों के पर्यटन ने भी शुरूआती अर्थव्यवस्था में योगदान दिया। हालांकि 18वीं शताब्दी के दौरान मिडलसेक्स की आन्तरिक बस्तियों (parishes) ने नगर के बाहरी क्षेत्रों के रूप में काम करना शुरू कर दिया था और उनका तीव्र नगरीकरण होने लगा।

1839 से रेडियल रेलमार्ग की शुरुआत के फलस्वरूप लन्दन को कृषि आपूर्ति के स्थान पर वृहत स्तर पर भवन निर्माण सामग्री की आपूर्ति की जाने लगी और यह एक मौलिक स्थानांतरण था। उत्तरपूर्व में टोटेंहैम, एडमॉन्टन और एनफील्ड पहले नौकरी पेशा वर्ग के रिहायशी इलाकों के रूप में विकसित हुए और केन्द्रीय लन्दन तक उनकी पहुंच भी सरल थी। मिडलसेक्स से होकर विंडसर जाने वाला मार्ग 1848 में पूरा हो गया था, पॉटर्स बार तक 1850 में और 1878 में महानगरीय और महानगरीय जिला रेलवे ने प्रान्त में विस्तारीकरण की एक श्रंखला शुरू कर दी। लन्दन के समीप एक्टन, विल्स्डेन, ईलिंग और हॉर्नसे नगर ट्राम और बस द्वारा पहुंचे जा सकने वाले क्षेत्रों में आ गए, इससे केन्द्रीय लन्दन तक पहुंचना सस्ता हो गया।

प्रथम विश्व युद्ध के बाद श्रमिकों की उपलब्धता और लन्दन के समीप होने के कारण हेस और पार्क रॉयल जैसे क्षेत्र नए उद्योगों के विकास के लिए आदर्श स्थल हो गए। नई नौकरियों के कारण अधिकाधिक लोग इस प्रान्त (काउंटी) की ओर आकर्षित होते गए और जनसंख्या बढ़ती गयी जोकि 1951 में चरम पर पहुंच गयी।

JBL PARTYBOX ENCORE

प्रशासन

महानगर

19वीं शताब्दी तक, लन्दन का पूर्वीय छोर एसेक्स की पूर्वीय सीमा तक विस्तृत हो चुका था और टावर प्रभाग की जनसंख्या 1 मिलियन से भी अधिक हो चुकी थी। रेलवे मार्ग के शुरू होने के बाद, लन्दन के उत्तर-पूर्वी उपनगरीय इलाके लगातार प्रांत (काउंटी) के बड़े हिस्से पर फ़ैलने लगे। 1929 से लन्दन के निकटस्थ क्षेत्र महानगर पुलिस के कार्यक्षेत्र में आने लगे और 1840 से पूरा प्रान्त महानगर जिला पुलिस के कार्यक्षेत्र में शामिल हो गया। काउंटी की स्थानीय सरकार नगरपालिका कारपोरेशन के अधिनियम 1835 से अप्रभावित थी और पुर कार्य अब भी अलग-अलग बस्तियों (परिश वेस्ट्रीज) या तदर्थ प्रगति आयुक्तों की जिम्मेदारी के अंतर्गत आता था। 1855 में दक्षिण पूर्व में घनी आबादी वाले क्षेत्रों की बस्तियां (parishes) महानगर कार्य बोर्ड के अंतर्गत आने लगीं, जिसमे लन्दन नगर शामिल नहीं था। इस नवीकरण के बाद भी टिप्पणीकर्ताओं द्वारा उस समय इस प्रणाली को "अव्यवस्थित" बताया गया। 1889 में, स्थानीय सरकार अधिनियम 1888 के अंतर्गत, लगभग 30,000 एकड़ (120 कि॰मी2) का महानगरीय इलाका लन्दन काउंटी का हिस्सा बन गया। इस अधिनियम के अनुसार लन्दन के प्रशासकीय क्षेत्र में आने वाले मिडलसेक्स के हिस्से को "[मिडलसेक्स] से अलग कर दिया जाना चाहिए और सभी गैर प्रशासकीय उद्देश्यों के लिए एक अलग काउंटी बनायी जानी चाहिए."

लंदन प्रान्त का वह भाग जो मिडलसेक्स से स्थानांतरित हुआ था उसे 1900 में 18 महानगरीय क्षेत्रों में बांट दिया गया था, जिन्हें 1965 में वर्तमान के 7 आतंरिक लन्दन नगरों के निर्माण के लिए मिलाया गया था।

  • कैमडेम, हेम्पस्टेड, हॉलबॉर्न और सेंट पैनक्रास के महानगरीय क्षेत्रों से बना था।
  • हेक्नी का निर्माण हेक्नी, शोरडिच और स्टोक नेविन्ग्टन के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था
  • हैमरस्मिथ (1979 से हैमरस्मिथ और फुलहैम के नाम से ज्ञात) का निर्माण हैमरस्मिथ और फुलहैम के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था
  • इस्लिंगटन का निर्माण फ़िंसबरी और इस्लिंगटन के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था
  • केंसिंग्टन और चेल्सिया का निर्माण चेल्सिया और केंसिंग्टन के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था
  • टावर हेमलेट्स का निर्माण बेथनल ग्रीन, पॉपलर और स्टेपनी के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था
  • सिटी ऑफ वेस्टमिन्स्टर का निर्माण पेडिंगटन, सेंट मारिलेबोन और वेस्टमिन्स्टर सिटी के महानगरीय क्षेत्रों से हुआ था।

अतिरिक्त-महानगरीय क्षेत्र

19वीं शताब्दी के मध्य तक महानगरीय क्षेत्र के बाहर मिडलसेक्स अधिकांशतः ग्रामीण ही रहा और इसीलिए स्थानीय सरकार का विकास भी धीमा था। लन्दन और वेस्टमिन्स्टर के अतिरिक्त वहां कोई भी अन्य नगर (बोरो) नहीं थे। इससे सैकड़ों न्यायालयों की महत्ता कम हो गयी और उनके सामान स्थानीय प्रशासन को चतुर्थांश सत्रों में शांति वार्ता के न्यायाधीशों द्वारा "काउंटी बिजनेस" और पूजागृह के पादरियों द्वारा निपटाए गए स्थानीय मामलों के बीच बांट दिया गया। जैसे-जैसे लन्दन के बाहरी इलाके उस क्षेत्र में विस्तृत होते गए, वैसे-वैसे कालरा के अनियोजित प्रसार और प्रकोप के कारण बढ़ते हुए कस्बों को शासित करने हेतु स्थानीय बोर्ड या सुधार आयुक्तों की आवश्यकता बढ़ती लगी। ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न प्रशासकीय उद्देश्यों के लिए बस्तियों को समूहीकृत किया जाने लगा। 1875 से इन स्थानीय निकायों को नगरीय या ग्रामीण सैनिटरी डिस्ट्रिक्ट्स की उपाधि दे दी गयी।

स्थानीय शासन अधिनियम 1888 के अनुसार, शेष काउंटी मिडलसेक्स काउंटी काउंसिल के अंतर्गत आयेगी सिवाय मोंकेन हेडली के इलाके के क्योंकि वह हेर्टफोर्डशायर का भाग हो गया था। मिडलसेक्स के लॉर्ड ल्युटिनेंट का दायित्व भी इसी अनुपात में कम हो गया। मिडलसेक्स के अंतर्गत कोई काउंटी क्षेत्र नहीं था, इसलिए काउंटी और प्रशासकीय काउंटी (काउंटी काउंसिल नियंत्रण के क्षेत्र) दोनों एक ही थे।

स्थानीय शासन अधिनियम 1894 ने प्रशासकीय काउंटी को 4 ग्रामीण जिलों में और 31 नगरीय जिलों में बांट दिया, यह तत्कालीन सैनिटरी जिलों पर आधारित था। एक नगरीय जिला, साउथ हॉर्नसे, 1900 तक लन्दन काउंटी के अंतर्गत मिडलसेक्स का एक्स्क्लेव था, इसके बाद इसे परवर्ती प्रान्त में स्थानांतरित कर दिया गया। हेंडन, साउथ मिम्स, स्टेंस और अक्सब्रिज ग्रामीण नगरों में थे। बढ़ते हुए नगरीकरण के फलस्वरूप 1934 में ये सभी समाप्त कर दिए गए। 1965 तक कई नगरीय जिलों का निर्माण और विलय हुआ और अनेकों को महानगरपालिका क्षेत्र का दर्जा भी दिया गया। 1961 की जनगणना के अनुसार वहां निम्न जिले थे:

1889 के बाद लन्दन का विकास निरंतर चलता रहा और काउंटी लगभग पूरी तरह से लन्दन के बाह्य इलाकों से भर गयी जिससे जनसंख्या घनत्व में भी काफी इजाफा हुआ। मेट्रो-लैंड-डेवेलपमेंट, जिसने काउंटी के अधिकतर भाग को परिवेष्टित कर लिया, द्वारा यह प्रक्रिया और भी त्वरित हो गयी। प्रान्त (काउंटी) में सार्वजनिक परिवहन, जिसके अंतर्गत ट्रामों का विस्तृत जाल, बसें और लन्दन भूमिगत मार्ग, 1933 में लन्दन पैसेंजर ट्रांसपोर्ट बोर्ड के नियंत्रण में आ गया और 1930 के दशक में सुविधाओं को और भी बढ़ाने के लिए एक नया निर्माण कार्य विकसित किया गया। राजधानी से इसकी निकटता के कारण कुछ हद तक द्वीतीय विश्व युद्ध में प्रान्त (काउंटी) की भूमिका काफी महत्त्वपूर्ण थी। काउंटी पर आकाशीय बमबारी की गयी और इसमें कई सैन्य प्रतिष्ठान भी शामिल थे, जैसे कि आरएएफ (RAF) अक्सब्रिज और आरएएफ (RAF) हेस्टन, जो ब्रिटेन से हुए युद्ध में संलग्न थे।

काउंटी शहर

लन्दन से निकटता और उसके प्रभाव के कारण मिडलसेक्स में एक भी ऐतिहासिक रूप से प्रतिष्ठित काउंटी शहर नहीं है। हालांकि विभिन्न प्रान्तों (काउंटी) के उदेश्यों हेतु भिन्न भिन्न स्थलों का प्रयोग किया गया है। मिडलसेक्स के लिए अभिनियामित प्रान्त (काउंटी) का आयोजन लन्दन में ओल्ड बैले में हुआ था। 1889 तक मिडलसेक्स के हाई शेरिफ का चयन सिटी ऑफ लन्दन कॉर्पोरेशन द्वारा होता था। 18वीं शताब्दी के आरम्भ से मिडलसेक्स के चतुर्थांश सत्र का सेशन हाउस क्लर्केंवेल ग्रीन में था। 1889 में मिडलसेक्स प्रान्त (काउंटी) के निर्माण से पहले तक पूर्व मिडलसेक्स सेशन हाउस में चतुर्थांश सत्र ही काउंटी के अधिकांश प्रशासकीय कार्य करता था। 1789 में पहली बार न्यू ब्रेंटफोर्ड को इस आधार पर काउंटी नगर के रूप में वर्णित किया गया था कि यह 1701 से शायर के लिए नाईट का चुनाव स्थल था (या लोकसभा के सदस्यों का). 1795 में न्यू ब्रेंटफोर्ड को "काउंटी-नगर समझा जाता था; लेकिन वहां कोई टाउन-हॉल या अन्य सार्वजनिक बिल्डिंग नहीं है।" मिडलसेक्स काउंटी काउंसिल जिसने 1889 में क्वार्टर सेशन की प्रशासकीय जिम्मेदारियां ले ली थीं, वेस्टमिन्स्टर के मिडलसेक्स गिल्डहॉल में स्थित था। यह लन्दन काउंटी में था और इस प्रकार काउंसिल के अधिकार क्षेत्र के बाहर था।

मिडलसेक्स काउंटी परिषद के शस्त्र

मध्ययुगीन अग्रदूतों द्वारा एंग्लो-सेक्सन हेप्टार्की के शासित प्रदेश को कोट ऑफ आर्म्स का सम्मान दिया गया था। किंगडम ऑफ मिडल एंड ईस्ट सैक्संस को कोट ऑफ आर्म्स में तीन "चाकुयें" या लाल रंग की पृष्ठभूमि पर कम कटाव वाली तलवारें दी गयी थीं। यह चाकू एंग्लो-सेक्सन योद्धाओं द्वारा लिया जाने वाला एक हथियार था और सेक्सन शब्द भी इसी से लिया गया था। यह शस्त्र दो उन देशों से सम्बद्ध हो गए जो किंगडम के दर्जे के थे: मिडलसेक्स और एसेक्स. देश के अधिकारी, नागरिक सेना और स्वयंसेवी सैन्य दलों के द्वारा इन शस्त्रों का प्रयोग किया जाता था जोकि दोनों देशों से सम्बद्ध थे।

1910 में यह पाया गया कि मिडलसेक्स और एसेक्स की काउन्टी काउंसिल और लन्दन काउंटी में स्थित शेरिफ का ऑफिस, सभी इन्ही शस्त्रों का प्रयोग कर रहे थे। मिडलसेक्स काउंटी काउंसिल ने कॉलेज ऑफ आर्म्स से औपचारिक अनुमति प्राप्त करने का और साथ ही इसके अतिरिक्त सम्बंधित शस्त्र के लिए एक पूर्वसूचक "अंतर" प्राप्त करने का निर्णय लिया। कोलोनल ओटले पैरी जोकि मिडलसेक्स के लिए जस्टिस ऑफ द पीस न्यायाधीश और सैन्य बिल्लों पर लिखी गयी एक किताब के लेखक थे, उनसे इस संस्करण का परिशिष्ट लिखने के लिए कहा गया। चयनित परिशिष्ट एक "सैक्सन क्राउन" था, यह किंग एथलेस्टन के चित्र से लिया गया है जिसमे वह अपने अधिपत्य की सिल्वर पेनी पर हैं, ऐसा कहा गया की यह क्राउन का सबसे प्रारंभिक रूप है जो किसी अंग्रेजी शासक से सम्बद्ध है। 7 नवम्बर 1910 वाले पेटेंट पत्रों के आधार पर ग्रांट ऑफ आर्म्स बनाया गया था। शस्त्रों का चिन्ह था:

गुलस, थ्री सीक्सेस फेसे वैस प्वाइंट्स टू द सिनिस्टर प्रॉपर, पौमेल्स एंड हिल्ट्स एंड इन द सेंटर चीफ प्वाइंट अ सेक्सन क्राउन आर.

1932 में अन्तः किंगडम का अंतरविहीन शस्त्र एसेक्स काउंटी काउंसिल को दे दिया गया। काउंटी में कई क्षेत्रों और नगरीय जिलों के चिन्ह के रूप में चाकुओं का इस्तेमाल होता था, जबकि सेक्सन क्राउन अंग्रेजी नागरिक दल में एक सामान्य राजकीय घोषणाओं वाला दायित्व हो गया। 1965 में ग्रेटर लन्दन काउंसिल के निर्माण के बाद इसके कोट ऑफ आर्म्स में सैक्सन क्राउन की शुरुआत की गयी। लन्दन के क्षेत्रीय काउंसिल और स्पेलथोर्न की क्षेत्रीय काउंसिल के शस्त्रों में चाक़ू दिखाई पड़ता है, जिसका क्षेत्र मिडलसेक्स में था।

ग्रेटर लंदन का निर्माण

1889 में निर्माण के बाद से लन्दन काउंटी की जनसंख्या में गिरावट आई और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद निष्क्रमण चलता रहा। इसके विपरीत, इसी समय में मिडलसेक्स की जनसंख्या में निरंतर वृद्धि हुई। 1951 से 1961 तक काउंटी के आतंरिक जिलों की जनसंख्या में गिरावट आने लगी और बाहरी क्षेत्र के जिलों में भी मात्र आठ में वृद्धि दर्ज की गई। 1961 की जनगणना के अनुसार ईलिंग, एनफील्ड, हेरो, हेंडन, हेस्टन और आइज़लवर्थ, टोटेंहैम, विम्ब्ले, विल्सडेन और ट्विकेंहैम आदि सभी की जनसंख्या 100,000 से ज्यादा है जो सामान्यतया उन्हें काउंटी क्षेत्र का दर्जा पाने का अधिकार देता है। यदि इन सभी क्षेत्रों को अनुमति मिल जाये तो मिडलसेक्स की प्रशासकीय काउंटी की जनसंख्या आधी हो जाये, एक मिलियन से कुछ ही कम रहने के लिए।

ग्रेटर लन्दन में स्थानीय शासन के सम्बन्ध में रॉयल कमीशन का अनुसरण करते हुए, लोक सभा ने लन्दन गवर्नमेंट अधिनियम 1963 जारी किया, जो एक अप्रैल 1963 से प्रभावी हो गया।

इस अधिनियम से मिडलसेक्स और लन्दन की काउंटी समाप्त हो गयी। एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ जस्टिस अधिनियम 1964 ने मिडलसेक्स की मजिस्ट्रेट पदवी और लेफ्टिनेंट की पदवी समाप्त कर दी। मिडलसेक्स की लगभग सभी शेष जगह 1965 में ग्रेटर लन्दन का हिस्सा बन गयीं और बार्नेट (केवल कुछ हिस्सा), ब्रेंट, ईलिंग, एनफील्ड, हैरिंगे, हेरो, हिलिंग्डन, हाउंसलो और रिचमौण्ड अपॉन थेम्स (केवल कुछ हिस्सा) के द्वारा नए बाह्य लन्दन क्षेत्र का निर्माण किया गया। शेष क्षेत्रों में पॉटर्स बार अर्बन डिस्ट्रिक्ट थे, जो हेर्टफोर्डशायर का एक हिस्सा बन चुके थे जबकि सनबरी-ऑन-थेम्स अर्बन डिस्ट्रिक्ट और स्टेंस अर्बन डिस्ट्रिक्ट सरे का हिस्सा बन गए। इन परिवर्तनों के बाद, मिडलसेक्स से सम्बंधित लोकसभा के स्थानीय अधिनियम अब सभी नौ "नॉर्थ वेस्ट लन्दन बोरो" पर लागू होते थे। 1974 में तीन नगरीय जिले जिन्हें हेर्टफोर्डशायर और सरे में स्थानांतरित कर दिया गया था, वे समाप्त कर दिए गए और क्रमशः हर्टस्मियर तथा स्पेलथोर्न के जिले बन गए (केवल कुछ हिस्से). 1995 में पोयल गांव को स्पेलथोर्न से स्लो के बर्कशायर क्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया गया। इसके अतिरिक्त, 1995 से उत्तर और पश्चिम में ग्रेटर लन्दन की परिसीमा में कई छोटे परिवर्तन किये गए हैं।

भूगोल

यह काउंटी लन्दन बेसिन के अंतर्गत आती है और इसकी प्रमुख विशेषता थेम्स नदी है, जो इसकी दक्षिणी परिसीमा है। पूर्व और पश्चिम में नदी ली और नदी कोल्न इसका प्राकृतिक परिसीमन करती हैं। काउंटी के दक्षिण पश्चिम में थेम्स नदी का घुमाव इस प्रकार है कि वह "मिडलसेक्स बैंक" बनाती है, जो वर्णनात्मक रूप से "नॉर्थ बैंक" से अधिक सही है; नौका रेस के दौरान भी इस अंतर का ध्यान रखा जाता है। उत्तर में सीमा अधिकांश रूप से एक पर्वत श्रेणी द्वारा बनी है जो काउंटी में बार्नेट वैली और हेर्टफोर्डशायर के दीर्घ उभार द्वारा विच्छेदित है। काउंटी में लकड़ी की प्रचुरता थी, और इसका अधिकांश भाग पुराने मिडलसेक्स के वनों से ढका है। सबसे उच्च बिंदु 502 फीट (153 मी॰) पर स्थित बुशी हेल्थ का हाई रोड है, जो अब लन्दन के भी उच्चतम बिन्दुओं में से है।

विरासत

मिडलसेक्स का प्रयोग उस क्षेत्र में स्थित संस्थाओं के नाम में किया जाता है जैसे मिडलसेक्स काउंटी क्रिकेट क्लब और मिडलसेक्स यूनिवर्सिटी. वहां एक मिडलसेक्स काउंटी फुटबॉल एसोशियेशन है और दो टीम हैं जो अब सरे, स्टेंस टाउन और एश्फोर्ड टाउन (मिडलसेक्स) में हैं और साथ हेर्टफोर्डशायर में पॉटर बार टाउन, यह सब टीमें आपस में प्रतिस्पर्धा करती हैं। उत्तरीय लन्दन के मूल निवासी और पुरस्कृत कवि, सर जॉन बेट्जेमैन ने मिडलसेक्स और उपनगरीय अनुभवों के बारे में अपनी कई कविताएं छपवायीं. इनमे से कई दूरदर्शन पर प्रसारित समाचार मेट्रोलैंड में आयी थीं। 2002 के एक विपणन अभियान के भाग के रूप में, प्लांट कंज़र्वेशन चैरिटी प्लांटलाइफ ने वुड एनीमोन फूल को काउंटी के फूल के रूप में चुना। 2003 के शुरुआत के दिनों में ही दो हस्ताक्षरों सहित एक प्रस्ताव के माध्यम से 16 मई को बैटल ऑफ एल्ब्युरा की वर्षगांठ घोषित कर दिया गया और हाल के वर्षों में इसे मिडलसेक्स डे के रूप में मनाया गया, जो युद्ध में मिडलसेक्स रेजिमेंट (द डाई-हार्ड्स") के साहसी प्रयास की प्रशंसा करता है। इसके पीछे इस ऐतिहासिक काउंटी को मान्यता देना और इसको मनाने का उद्देश्य था। 1965 में इसके निर्माण पर, ग्रेटर लन्दन को न्यायिक प्रशासन के लिए 5 कमीशन क्षेत्रों में बांट दिया गया। एक को "मिडलसेक्स" नाम दिया गया जिसमे बार्नेट, ब्रेंट, ईलिंग, एनफील्ड, हरिंगे, हेरो, हिलिंग्डन और हाउंसलो के क्षेत्र शामिल थे। 1 जुलाई 2003 को इसे समाप्त कर दिया गया।

पूर्व पोस्टल काउंटी

मिडलसेक्स (संक्षिप्त रूप मिड्क्स) को एक पूर्व पोस्टल काउंटी के रूप में भी व्यक्त किया जाता है; जोकि 1996 तक डाक में लिखे पते में सामान्य रूप में प्रयोग होता था और अब यह वैकल्पिक है। 1965 के बाद पोस्टल काउंटी को पुनः मान्यता मिल गयी क्योंकि रॉयल मेल सभी परिवर्तनों को काउंटी की सीमा के अन्दर पालन कर पाने में असमर्थ थी और ग्रेटर लन्दन को भी पोस्टल काउंटी के रूप में स्वीकार नहीं कर सकती थी। हालांकि, आतंरिक मिडलसेक्स के अधिकांश भाग (विल्स्डेन, हॉर्नसे आदि) लन्दन के पोस्टल जिले के अन्दर थे, जिसके अंतर्गत पते में पहले ही "लन्दन" लिखा होता था और काउंटी नहीं लिखा जाता था। हेर्टफोर्डशायर में पॉटर्स बार का स्थानांतरण रॉयल मेल द्वारा अंगीकृत किया गया था, लेकिन स्टेंस और सनबरी का सरे में स्थानान्तरण स्वीकार नहीं किया गया था। शेष पोस्टल काउंटी में दो असंयुक्त क्षेत्र, 6 मील (9.7 कि॰मी॰) से भिन्न (एनफील्ड और शेष) थे और उनमे निम्नांकित पोस्ट टाउन शामिल थे:

† = पोस्टल काउंटी की आवश्यकता नहीं थी

उन स्थानों पर पोस्टल काउंटी में कई असंगतियां थीं जहां इसके पोस्ट टाउन पड़ोसी काउंटी पर अतिक्रमण करते थे, जैसे की डेनहैम, बकिंघमशायर का गांव, जो अक्सब्रिज पोस्ट टाउन के अंतर्गत आता है और इसलिए मिडलसेक्स की पोस्टल काउंटी के अंतर्गत माना जाता है; इसके विपरीत, हैम्पटन विक को मिडलसेक्स काउंटी में बही लिया जाता क्योंकि यह सरे के पोस्ट ऑफिस से सम्बद्ध था। इस वजह से हैम्पटन कोर्ट पैलेस के पते से ऐसा लगता है कि जैसे यह पूर्व मोलसे, सरे में स्थित हो। रेस्बरी, बर्कशायर और इघेम हाइथ, सरे आदि स्टेंस पोस्ट टाउन में हैं और इसीलिए इन्हें मिडलसेक्स काउंटी में भी शामिल किया गया है।

सन्दर्भ

पद टिप्पणियां
ग्रंथ सूची
Turnbull & Asser

बाहरी कड़ियाँ

  • मिडलसेक्स का विक्टोरिया काउंटी इतिहास
  • गूगल अर्थ के लिए परत के रूप में ऐतिहासिक सीमा
  • मिडलसेक्स प्रतिभाग के मानचित्र: एडमॉन्टन, एलथोर्ने, गोर, आइसलवर्थ और स्पेलथौर्न
    • ओसुलस्टोन: आउटर फिन्सबरी, इनर फिन्सबरी, आउटर केंसिंग्टन, इनर केंसिंग्टन, हॉलबोर्न और टॉवर

साँचा:England counties साँचा:Middlesex साँचा:Local government in London साँचा:London Government Act 1963


Text submitted to CC-BY-SA license. Source: मिडलसेक्स by Wikipedia (Historical)


Langue des articles



PEUGEOT 104

Quelques articles à proximité